गाया है Asha Bhosle, Amit Kumar ने। लिखा है Gulzar ने। गीतायन पर खोजें

असल में

roz roz aa.Nkho.n tale

AV ने जैसा सुना/समझा
roz roz aa.Nkhe.n tale (as in getting fried)

बकौल AV,
samajh nahin aaya ki har din aankhon ko talne ki baat kyun hai
मज़ेदार है!
अरे! मैंने भी यही समझा था!


चर्चा

आपकी बात

आपका नाम

2 + 7 =


सर्वाधिकार सुरक्षित © 2005 विनय जैन